कांगड़ी धाम | kangdi Dham |himachali food fest |PahadiBanda

हिमाचल में धाम एक विशेष प्रकार के भोज को बोलते हे | इस का आयोजन विवाह शादियों वे अन्य खुशी के मौको पर किया जाता हे | भोजन को तैयार करने के लिये कुक लोकल भाषा में जिसे बोटी कहते है बुलाया जाता हे| तरह तरह के वयंजन परोसे जाते हे |

धाम में धरती पर चटाई लाइन में  बैठा कर खिलाया जाता है| बोटी के धाम परोसने की प्रतीक्षा करते हुए |

भात (rice) के साथ तरह तरह के वयंजन होते है | जैसे की मदरा ,खाटा, पालदा , माह की दाल, लुन्गदु ,चने की दल ,मीठा भात | ये सभी वयंजन पतल में परोसे जाते हे जो की पेड के पते का बनता हे | सारा भोजन चरोती -कॉपर का एक तरह का बड़ा सा पतीला में बनता हे |सभी चीजे देसी घी और घर के मसाले आदी से बनती हे |

धाम में परोसे जाने वाले वयंजन

कांगड़ी धाम में खाना  जमीन पर लम्बी चटाई  पर लम्बी लाइन में बैठा कर खिलाया जाता है |सबसे अंत में मीठे चावल परोसे जाते  हैं |धीरे धीरे कांगड़ी धाम अब लुप्त होती जा रही है | अब लोग खाने के लिए नये तौर तरीकों को अपना रहे हैं , जैसे पत्तल की जगह रेडिमेड प्लेट्स और गिलास का प्रयोग किया जा रहा है|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *